बूढ़ी अम्मा की बात

NCERT Solution

प्रश्न 1: पाठ से

(a) लोककथा में गोमा बिना खेत जोते बैलों को हांककर अपने घर की ओर क्यों चल पड़ा?

उत्तर: तीन साल से बारिश नहीं होने की वजह से खेत कठोर हो गए थे। चारा नहीं मिलने से गोमा के बैल कमजोर हो गये थे। मौसम का हाल देखकर बारिश की कोई उम्मीद भी नहीं लग रही थी।

विपरीत परिस्थितियों में अच्छे-अच्छे आदमी की हिम्मत टूट जाती है। गोमा भी हताश हो चुका था। इसलिए वह बुझे मन से घर वापस जा रहा था।

(b) गोमा को पेड़ के नीचे बैठा देखकर बूढ़ी अम्मा ने उससे क्या कहा?

उत्तर: बूढ़ी अम्मा ने गोमा को बहुत ही अनमोल शिक्षा दी। उसने कहा कि आदमी को कभी हिम्मत नहीं हारनी चाहिए। अपनी जिम्मेदारियां समय पर पूरी करनी चाहिए। अगर समय पर काम पूरा किया जाए तो स्थिति भी अनुकूल हो जाती है। हमें सिर्फ उसपर ध्यान देना चाहिए जो हमारे वश में है। ईश्वर भी उसी की मदद करता है जो अपनी मदद खुद करते हैं।

(c) गोमा ने अपने खेतों को क्यों जोता?

उत्तर: बूढ़ी अम्मा की बातों से गोमा को नई हिम्मत मिली। उसने अपना कर्म करने की ठान ली। गीता में भी कहा गया है कि अपना कर्म करो और फल की चिंता ऊपर वाले पर छोड़ दो।

प्रश्न 2: क्या होता अगर

(a) गोमा खेतों को तैयार न करता?

उत्तर: यदि गोमा खेतों को तैयार न करता तो वह बारिश आने के बाद समय पर बीज नहीं बो पाता। इससे उसे अच्छी पैदावार नहीं मिल पाती।

(b) गोमा को बूढ़ी अम्मा नहीं मिलती?

उत्तर: यदि गोमा को बूढ़ी अम्मा नहीं मिलती तो गोमा अन्य दिनों की तरह खेत जोते बगैर घर वापस चला जाता।

(c) बूढ़ी अम्मा की बात पर गोमा ध्यान न देता?

उत्तर: इस प्रश्न का उत्तर पिछले प्रश्न की तरह ही होगा।

(d) इस साल भी वर्षा न होती?

उत्तर: यदि इस साल भी वर्षा न होती तो भी गोमा की मेहनत ब्यर्थ न जाती। जुते हुए खेत से कुछ न कुछ उपज तो अवश्य हो जाती। हो सकता है गोमा सिंचाई के लिए कोई अन्य प्रबंध कर लेता जिससे उपज बेहतर हो सकती।

प्रश्न 3: वर्षा कैसे हो

(a) बूढ़ी अम्मा ने वर्षा न होने का क्या कारण बताया था?

उत्तर: बूढ़ी अम्मा ने बताया कि इंसार पेड़ों की बेरहमी से कटाई कर रहे हैं। पेड़ों की कमी के कारण ही वर्षा नहीं हो रही है।

(b) क्या तुम बूढ़ी अम्मा की बात से सहमत होते? अपने उत्तर का कारण भी बताओ।

उत्तर: विज्ञान और भूगोल के पाठ में मैंने पढ़ा है कि किस तरह पेड़ वर्षा करवाने में मदद करते हैं। बादलों के निर्माण में पेड़ अहम भूमिका निभाते हैं। इसलिए मैं बूढ़ी अम्मा की बात से सहमत हूँ।

प्रश्न 4: गाँव और पशु

(a) “इस वर्ष भी आषाढ़ सूखा ही रहा।“ लोककथा से जाहिर होता है कि गोमा के गाँव में तीन साल से वर्षा नहीं हुई थी। वर्षा न होने के कारण उनके गाँव के बैलों, खेतों और पेड़ों में क्या बदलाव आए होंगे?

उत्तर: तीन साल से वर्षा न होने से गाँव पर बहुत बुरा असर पड़ा होगा। खेत सूख गये होंगे और जमीन में दरारें पड़ गई होंगी। मवेशियों को समुचित चारा और पानी न मिलने के कारण वे कमजोर हो गये होंगे। सूखे के कारण कई पेड़ भी सूख चुके होंगे।

(b) “सवेरे-सवेरे अपने पशुओं की ये आवाजें सुनने के लिए उसके कान तरस गए थे।“ गोमा ने बहुत समय बाद अपने पशुओं की वे आवाजें सुनी थीं। क्यों?

उत्तर: वर्षा के अभाव में पशु और मवेशी भी शक्तिहीन हो गये थे। उस दिन एक लंबे अरसे के बाद बारिश की शुरुआत हो रही थी। इसलिए गोमा ने बहुत समय बाद अपने पशुओं की वे आवाजें सुनी थी।

प्रश्न 5: सोचने की बात

बूढ़ी अम्मा ने कहा, “वर्षा अवश्य होगी।“

(a) तुम्हारे विचार से बूढ़ी अम्मा ने गोमा से यह बात क्यों कही?

उत्तर: हो सकता है कि बूढ़ी अम्मा ने गोमा का हौसला बढ़ाने के लिए यह बात कही होगी।

(b) क्या उन्हें मालूम था कि इस साल वर्षा होगी? या उन्होंने अपने अनुभव के आधार पर केवल अंदाजा लगाया था?

उत्तर: बूढ़ी अम्मा ने अपने अनुभव के आधार पर केवल अंदाजा लगाया होगा। आज भी आधुनिक तकनीक और उपकरणों के प्रयोग के बावजजूद मौसम वैज्ञानिक भी मौसम की भविष्यवाणी के बारे में केवल अंदाजा ही लगा पाते हैं। अधिकतर मामलों में उनका अंदाजा सही बैठता है। ऐसा ही बूढ़ी अम्मा के साथ हुआ होगा।

(c) वर्षा और पेड़ों के संबंधों के बारे में सोचो। पाँच-पाँच बच्चों के समूह बनाकर इस बारे में बातचीत करो। फिर सबको अपने समूह के विचार बताओ।

उत्तर: स्वयं हल करो

प्रश्न 6: कैसा था गोमा

सही शब्दों पर गोला लगाओ: कामचोर, आलसी, मेहनती, भोला-भाला, मूर्ख, समझदार, गरीब, अमीर, कमजोर, लगन का पक्का

अब अपने उत्तर का कारण नीचे लिखो:

मेरे विचार से गोमा ...................व्यक्ति था क्योंकि ...............

उत्तर: गोमा रोज अपने बैलों को लेकर खेत की ओर निकलता था। इससे पता चलता है कि गोमा मेहनती था। गोमा की खेती गुजर बसर लायक थी यानि वह गरीब था। गोमा लगन का पक्का भी था।



Copyright © excellup 2014