पानी की कहानी

NCERT Solution

प्रश्न 1: लेखक को ओस की बूँद कहाँ मिली?

उत्तर: ओस की बूँद किसी बेर की झाड़ी से लेखक के हाथों पर गिरी थी।

प्रश्न 2: ओस की बूँद क्रोध और घृणा से क्यों काँप उठी?

उत्तर: पेड़ की जड़ों के अंदर प्रवेश करने के बाद ओस की बूँद को असहनीय पीड़ा और यातना का सामना करना पड़ा था। इसलिए वह क्रोध और घृणा से काँप उठी।

प्रश्न 3: हाइड्रोजन और ऑक्सीजन को पानी ने अपना पूर्वज/पुरखा क्यों कहा?

उत्तर: पानी का निर्माण हाइड्रोजन और ऑक्सीजन के मिलने से होता है। इसलिए पानी ने हाइड्रोजन और ऑक्सीजन को अपना पूर्वज कहा है।

प्रश्न 4: “पानी की कहानी” के आधार पर पानी के जन्म और जीवन यात्रा का वर्णन अपने शब्दों में कीजिए।

उत्तर: जब केवल सूर्य अस्तित्व में था और उसका कोई सौर मंडल नहीं था तो पानी का कोई अस्तित्व नहीं था। उसके बाद हाइड्रोजन और ऑक्सीजन के मिलने से पानी का निर्माण हुआ था। अपने जन्म के करोड़ों वर्षों तक पृथ्वी बहुत गर्म थी। तब पानी का अस्तित्व जलवाष्प के रूप में था। जब पृथ्वी ठंडी हुई तो पानी का अस्तित्व बर्फ के रूप में परिणत हो गया। उसके बाद पानी अपने तरल रूप में आ गया।

प्रश्न 5: कहानी के अंत और आरंभ के हिस्से को स्वयं पढ़कर देखिए और बताइए कि ओस की बूँद लेखक को आपबीती सुनाते हुए किसकी प्रतीक्षा कर रही थी?

उत्तर: ओस की बूँद सूर्य का इंतजार कर रही थी ताकि सूर्य की गर्मी से वह जलवाष्प बनकर उड़ सके।



Copyright © excellup 2014