Topsy-turvy Land

H E Wilkinson

The people walk upon their heads,
The sea is made of sand,
The children go to school by night,
In Topsy-turvy Land.

यह कविता एच ई विल्किंसन ने लिखी है। इस कविता में ऐसी दुनिया के बारे में लिखा है जिसमें सब कुछ उल्टा पुल्टा है। इस उल्टी पुल्टी दुनिया में लोग अपने सिर के बल चलते हैं। समुद्र में पानी की जगह रेत भरी है। बच्चे रात में स्कूल जाते हैं।



The front-door step is at the back,
You’re walking when you stand,
You wear your hat upon your feet,
In Topsy-turvy Land.

इस उल्टी पुल्टी दुनिया में आगे का दरवाजा घर के पिछवाड़े में है। जब आप खड़े होते हैं तो आप चल रहे होते हैं। आप अपनी टोपी अपने पाँवों में पहनते हैं।

And buses on the sea you’ll meet,
While pleasure boats are planned,
To travel up and down the streets,
Of Topsy-turvy Land.

इस दुनिया में बसें समंदर में चलती हैं। दूसरी तरफ गलियों में सफर करने के लिए नावें मिलती हैं।

You pay for what you never get,
I think it must be grand,
For when you go you’re coming back,
In Topsy-turvy Land.

जिस चीज के लिए आप पैसे देते हैं वह चीज आपको कभी नहीं मिलती है। कितना मजा आता होगा जब आप लौटने की कोशिश करते हैं तो आप आगे बढ़ने लगते हैं।

Reading is Fun

Question 1: When do children go to school in Topsy-turvy Land?

Answer: In the Topsy-turvy Land, the children go to school in night.

Question 2: In the poem, if buses travel on the sea, then where do the boats travel? How should it rightly be?

Answer: Boats travel on streets. In reality, buses should travel on streets and boats should travle on the sea.

Question 3: The Topsy-Turvy Land is very different from our land. Let’s draw a comparison by filling in sentences wherever needed.

Answer:

Topsy-turvy LandOur Land
People walk on their heads.People walk on their feet.
Buses run on the sea.The buses run on land.
They wear their hats on feet.They wear their hats on head.
Boats sail on streets.Boats sail in the sea.
People pay for what they don’t getPeople get what they pay for.



Copyright © excellup 2014