चाँद गहना से लौटती बेर

NCERT Solution

Question 1: ‘इस विजन में .......अधिक है’: पंक्तियों में नगरीय संस्कृति के प्रति कवि का क्या आक्रोश है और क्यों?

उत्तर: शहर की भीड़भाड़ वाली जिंदगी में लोगों में आपसी प्रेम का सख्त अभाव हो गया है। जिसे देखो वही अपने स्वार्थ को पूरा करने की भाग दौड़ में लगा हुआ है। लेकिन कवि इस निर्जन जगह पर खड़ा है, वहाँ पर प्रेम का कोई अभाव नहीं है, बल्कि प्रेम प्रचुर मात्रा में हर ओर व्याप्त है।

Question 2: सरसों को ‘सयानी’ कहकर कवि क्या कहना चाहता होगा?

उत्तर: जब सरसों के पौधे पर पीले फूल खिल जाते हैं तो वह इस अवस्था में आ जाते हैं कि नये बीजों का सृजन कर सकें। इसलिए कवि ने सरसों को सयानी कहा है। कवि के अनुसार, जिस तरह कोई कन्या पीले वस्त्र पहनकर दुल्हन बनने की तैयारी करती है उसी तरह सरसों ने भी पीले वस्त्र पहन लिये हैं और दुल्हन की तरह लग रही है। इसलिए कवि ने सरसों को सयानी कहा है।


Question 3: अलसी के मनोभावों का वर्णन कीजिए।

उत्तर: अलसी ऐसे लग रही है जैसे चने की बगल में हठ कर के खड़ी हो गई हो। अपनी कामिनी काया और लचीली कमर के साथ उसने बालों में नीले फूल लगा रखे हैं। जैसे ये कह रही हो कि जो भी उस फूल को छुएगा उसे ही उसका दिल मिलेगा।

Question 4: अलसी के लिए ‘हठीली’ विशेषण का प्रयोग क्यों किया गया है?

उत्तर: अलसी के पौधे अक्सर चने के पौधों के साथ या तो अपने आप उग जाते हैं या फिर उनके बीज बोने के कारण। अलसी का पौधा चने के पौधे के साथ लगभग चिपककर खड़ा है, इसलिए कवि ने अलसी के लिए ‘हठीली’ विशेषण का प्रयोग किया है।


Question 5: ‘चाँदी का बड़ा सा गोल खंभा’ में कवि की किस सूक्ष्म कल्पना का आभास मिलता है?

उत्तर: पोखर के बीच में प्राय: लकड़ी का एक मोटा सा खम्भा होता है। कुछ जगह पर इसे जाट कहा जाता है। इससे पोखर में पानी की गहराई का पता चलता है। इसकी तुलना चांदी के एक बड़े से खम्भे से की गई है जिससे आँखें चौंधिया जाती हैं। इन पंक्तियों से पता चलता है कि कवि को किसी स्थूल वस्तु में भी सौंदर्य तलाशने में महारत हासिल है। कोई कलाकार ही लकड़ी के मोटे से खम्भे; जिसमें काई लगी हो और जो पानी से सड़ रहा हो; को किसी चमकीली वस्तु की तरह देख सकता है।

Question 6: कविता के आधार पर ‘हरे चने’ का सौंदर्य अपने शब्दों में चित्रित कीजिए।

उत्तर: चने का पौधा ऐसा लग रहा है जैसे एक ठिगना सा आदमी अपने सर पर छोटे से गुलाबी फूल की पगड़ी बांधकर सज धजकर खड़ा है। भारत के गाँवों में आपको हर कद काठी के लोग मिल जाएँगे। उनमें से ज्यादातर लोग फिल्मों और टेलिविजन पर दिखाए गये आदर्श रूप रंग और काद काठी के धनी नहीं होते। लेकिन उनके अनगढ़ सौंदर्य में जो बात होती है उसे कोई कवि या कलाकार ही देख सकता है।

Question 7: कवि ने प्रकृति का मानवीकरण कहाँ-कहाँ किया है?

उत्तर: कवि ने प्रकृति का मानवीकरण कई जगह किया है। जब कवि खेतों में लगे पौधों का वर्णन करता है तो वह उनकी तुलना किसी न किसी मनुष्य से करता है। चने के पौधे में कवि को गुलाबी पगड़ी पहने ठिगना आदमी दिखता है। अलसी के पौधे में कवि को कोई हठीली युवती दिखती है। सरसों के पौधे में कवि को सजी धजी दुल्हन दिखाई देती है।

Question 8: कविता में से उन पंक्तियों को ढ़ूँढ़िए जिनमें निम्नलिखित भाव व्यंजित हो रहा है: और चारों तरफ सूखी और उजाड़ जमीन है लेकिन वहाँ भी तोते का मधुर स्वर मन को स्पंदित कर रहा है।

उत्तर: बाँझ भूमि पर
इधर उधर रीवां के पेड़
कांटेदार कुरूप खड़े हैं।
सुन पड़ता है मीठा मीठा रस टपकाता
सुग्गे का स्वर
टें टें टें टें।

Question 9: ‘और सरसों की न पूछो’: इस उक्ति में बात को कहने का एक खास अंदाज है। हम इस प्रकार की शैली का प्रयोग कब और क्यों करते हैं?

उत्तर: इस प्रकार की शैली का प्रयोग हम तब करते हैं जब हम किसी की विशेषता को थोड़ा बढ़ा चढ़ाकर बताते हैं। ऐसा हम इसलिए करते हैं ताकि सुनने वाले को उसमें अधिक रुचि आये।

Question 10: काले माथे और सफेद पंखों वाली चिड़िया आपकी दृष्टि में किस प्रकार के व्यक्तित्व का प्रतीक हो सकती है?

उत्तर: चतुर, सजग और साहसी



Copyright © excellup 2014