संसाधन

NCERT Solution

बहुवैकल्पिक प्रश्न:

प्रश्न 1. पंजाब में भूमि निम्नीकरण का निम्नलिखित में से मुख्य कारण क्या है?

  1. गहन खेती
  2. वनोन्मूलन
  3. अधिक सिंचाई
  4. अति पशुचारण

उत्तर: (c) अधिक सिंचाई


प्रश्न 2. लौह अयस्क किस प्रकार का संसाधन है?

  1. नवीकरण योग्य
  2. जैव
  3. प्रवाह
  4. अनवीकरण योग्य

उत्तर: (d) अनवीकरण योग्य

प्रश्न 3. ज्वारीय ऊर्जा निम्नलिखित में से किस प्रकार का संसाधन है?

  1. पुन: पूर्ति योग्य
  2. मानवकृत
  3. अजैव
  4. अचक्रीय

उत्तर: (a) पुन: पूर्ति योग्य

प्रश्न 4. निम्नलिखित में से किस प्रांत में सीढ़ीदार (सोपानी) खेती की जाती है?

  1. पंजाब
  2. हरियाणा
  3. उत्तर प्रदेश के मैदान
  4. उत्तरांचल

उत्तर: (d) उत्तरांचल

प्रश्न 5. इनमें से किस राज्य में काली मृदा पाई जाती है?

  1. जम्मू और कश्मीर
  2. गुजरात
  3. राजस्थान
  4. झारखंड

उत्तर: (b) गुजरात


निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर लगभग 30 शब्दों में दीजिए:

प्रश्न 1. तीन राज्यों के नाम बताएँ जहाँ काली मृदा पाई जाती है। इस पर मुख्य रूप से कौन सी फसल उगाई जाती है?

उत्तर: काली मृदा महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में पाई जाती है। काली मृदा पर मुख्य रूप से कपास की खेती होती है।

प्रश्न 2. पूर्वी तट के नदी डेल्टाओं पर किस प्रकार की मृदा पाई जाती है? इस प्रकार की मृदा की तीन मुख्य विशेषताएँ क्या हैं?

उत्तर: पूर्वी तट के नदी डेल्टाओं पर जलोढ़ मृदा पाई जाती है। इस प्रकार की मृदा की तीन मुख्य विशेषताएँ हैं:

प्रश्न 3. पहाड़ी क्षेत्रों में मृदा अपरदन की रोकथाम के लिए क्या कदम उठाने चाहिए?

उत्तर: पहाड़ी क्षेत्रों में मृदा अपरदन की रोकथाम के लिये ये उपाय किये जा सकते हैं:

प्रश्न 4. जैव और अजैव संसाधन क्या होते हैं? कुछ उदाहरण दें।

उत्तर: जैव संसाधन: जो संसाधन जैव मंडल से मिलते हैं उन्हें जैव संसाधन कहते हैं। उदाहरण: मनुष्य, वनस्पति, मछलियाँ, प्राणिजात, पशुधन, आदि।

अजैव संसाधन: जो संसाधन निर्जीव पदार्थों से मिलते हैं उन्हें अजैव संसाधन कहते हैं। उदाहरण: मिट्टी, हवा, पानी, धातु, पत्थर, आदि।


निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर लगभग 120 शब्दों में दीजिए:

प्रश्न 1. भारत में भूमि उपयोग के प्रारूप का वर्णन करें। वर्ष 1960 – 61 से वन के अंतर्गत क्षेत्र में महत्वपूर्ण वृद्धि नहीं हुई, इसका क्या कारण है?

उत्तर: भारत में भू उपयोग का प्रारूप:

स्थाई चारागाहों के अंतर्गत भूमि कम हो रही है, जिससे पशुओं के चरने के लिये जगह कम पड़ रही है। यदि परती भूमि और अन्य भूमि को भी शामिल कर लें तो भी शुद्ध बोये गये क्षेत्र का हिस्सा 54% से अधिक नहीं है।

किसी राज्य की भौगोलिक संरचना के आधार पर शुद्ध बोये जाने वाले क्षेत्र का प्रारूप एक राज्य से दूसरे राज्य में बदल जाता है। पंजाब की भूमि समतल होने के कारण यहाँ 80% क्षेत्र शुद्ध बोये जाने वाले क्षेत्र के अंतर्गत आता है। लेकिन अरुणाचल प्रदेश, मिजोरम, मणिपुर और अंदमान निकोबार द्वीप समूह की भूमि समतल नहीं होने के कारण इन क्षेत्रों में 10% क्षेत्र ही शुद्ध बोये जाने वाले क्षेत्र के अंतर्गत आता है।

गैर कानूनी ढ़ंग से जंगल की कटाई और निर्माण कार्य में तेजी आने से ऐसा हो रहा है। जंगल के आसपास एक बड़ी आबादी रहती है जो वन संपदा पर निर्भर करती है। इन कारणों से वनों में ह्रास हो रहा है।

प्रश्न 2. प्रौद्योगिक और आर्थिक विकास के कारण संसाधनों का अधिक उपभोग कैसे हुआ है?

उत्तर: प्रौद्योगिकी और आर्थिक विकास के कारण भारत के लोगों की आमदनी बढ़ी है, जिससे हर चीज की मांग भी बढ़ी है। उत्पादों की बढ़ती हुई मांग को पूरा करने के लिए और भी अधिक संसाधनों की जरूरत पड़ती है। इससे संसाधनों का उपभोग बढ़ा है।



Copyright © excellup 2014