9 हिंदी क्षितिज

सुमित्रानंदन पंत

ग्राम श्री

फैली खेतों में दूर तलक,
मखमल की कोमल हरियाली,
लिपटी जिससे रवि की किरणें
चांदी की सी उजली जाली।
तिनके के हरे हरे तन पर
हिल हरित रुधिर है रहा झलक,
श्यामल भूतल पर झुका हुआ
नभ का चिर निर्मल नील फलक।

इस कविता में गाँव के खेतों के सौंदर्य का चित्रण हुआ है। यदि आप गाँव में नहीं भी रहते हों तब भी आपने बसों या रेल में सफर करते समय गाँव की नैसर्गिक सुंदरता को जरूर निहारा होगा। दूर दूर तक ऐसा लगता है जैसे हरे रंग की मखमल की चादर बिछी हुई हो और उसपर जब सूरज की किरणें चमकती हैं तो लगता है जैसे किसी ने चांदी का जाल बिछा दिया हो। घास के हरे तन पर लगता है हरे वस्त्र हवा में हिल रहे हों। जब आप दूर क्षितिज पर देखेंगे तो लगेगा जैसे सांवली सी धरती पर निर्मल नीला आकाश अपने पलक बिछा रहा हो।


रोमांचित सी लगती वसुधा
आई जौ गेहूं में बाली,
अरहर सनई की सोने की
किंकिनियाँ हैं शोभाशाली।
उड़ती भीनी तैलाक्त गंध
फूली सरसों पीली पीली,
लो, हरित धरा से झाँक रही
नीलम की कली, तीसी नीली।

जौ और गेहूं में बालियाँ आ जाने से धरती खुशी से रोमांचित लग रही है। ये बालियाँ धरती की दंतपंक्तियों की तरह लग रही है। उस रोमांच की शोभा अरहर और सन वसुधा की करघनी बनकर बढ़ा रही हैं। सरसों के पीले फूल अपना तैलीय सुगंध बिखेर रहे हैं। साथ में तीसी के नीले फूल मानों नीलम पत्थर के नगीने की तरह दिख रहे हैं।

रंग रंग के फूलों में रिलमिल
हंस रहीं सखियाँ मटर खड़ी,
मखमली पेटियों सी लटकी
छीमियाँ, छिपाए बीज लड़ी।
फिरती है रंग रंग की तितली
रंग रंग के फूलों पर सुंदर,
फूले फिरते ही फूल स्वयं
उड़ उड़ वृंतों से वृंतों पर।

मटर के पौधे ऐसे लग रहे हैं जैसे सखियाँ मखमल की पेटियों में बीज छिपा कर खड़ी होकर हंस रही हैं। रंग बिरंगी तितलियाँ रंगीले फूलों पर उड़ रही हैं और हवा के झोंके से जब फूल एक डाली से दूसरी डाली को छूते हैं तो लगता है वे खुशी से फूले नहीं समा रहे हैं। समूचे तौर पर देखा जाए तो रंगों की छटा बिखरी हुई है।


अब रजत स्वर्ण मंजरियों से
लद गई आम्र तरु की डाली
झर रहे ढ़ाक, पीपल के दल
हो उठी कोकिला मतवाली।
महके कटहल, मुकुलित जामुन
जंगल में झरबेरी झूली,
फूले आड़ू, नीम्बू, दारिम
आलू, गोभी, बैगन, मूली।

आम के पेड़ की डाली चांदी और सोने की मंजरियों से लद गये हैं। आम के बौर की खुशबू आप पर नशे जैसा असर कर सकती है। पीपल के पत्ते झरने शुरु हो गये हैं और कोयल वसंत ऋतु की मादकता में मतवाली हो गई है। कटहल के पेड़ों से और अधखिले जामुन के फूलों से माहौल महकने लगा है। झरबेरी की झाड़ियाँ भी फूलों के वजन से लदकर झूलने लगी हैं। साथ में अन्य पौधों के फूल पूरी तस्वीर को मूर्त रूप दे रहे हैं।

पीले मीठे अमरूदों में
अब लाल लाल चित्तियाँ पड़ीं
पक गये सुनहरे मधुर बेर
अंवली से तरु की डाल जड़ी
लहलह पालक, महमह धनिया
लौकी औ सेम फलीं फैलीं।
मखमली टमाटर हुए लाल
मिरचों की बड़ी हरी थैली।

अमरूद इतने पक गये हैं कि उनपर लाल लाल निशान पड़ गये हैं। बेर पक गये हैं और आंवले से पेड़ की डाल ऐसे लगती है जैसे उनपर सितारे जड़ दिये गये हों। लौकी और सेम पूरे जमीन पर उधर उधर फैल गई है। टमाटर मखमल की तरह लाल हो गये हैं। मिर्च के पौधे किसी हरी भरी थैली की तरह लग रहे हैं।


बालू के सांपों से अंकित
गंगा की सतरंगी रेती
सुंदर लगती सरपट छाई
तट पर तरबूजों की खेती
अंगुली की कंघी से बगुले
कलगी संवारते हैं कोई
तिरते जल में सुरखाब, पुलिन पर
मगरौठी रहती है सोई।

गंगा के रेतीले किनारों पर बालू में लंबी लंबी लकीरे बनी हुई हैं। वे लकीरें ऐसा प्रतीत होती हैं जैसे कई सांप सोये हुए हों। वहाँ पर सरपट बिछी हुई तरबूज की खेती बड़ी सुंदर लग रही है। पास में कोई बगुला अपनी अंगुली से अपनी कलगी में कंघी कर रहा है। पानी में सुरखाब तैर रहे हैं और किनारे पर मगर अलसाया सा सोया हुआ है।

हंसमुख हरियाली हिम आतप
सुख से अलसाए से सोये,
भीगी अंधियाली में निशि की
तारक स्वप्नों में से खोये।
मरकत डिब्बे सा खुला ग्राम
जिस पर नीलम नभ आच्छादन
निरुपम हिमांत में स्निग्ध शांत
निज शोभा से हरता जन मन।

जाड़े की धूप से हरियाली अलसाकर ऐसे सोई है जैसे रात के अंधेरे में तारों के सपने देख रही हो। जाड़े के मौसम का अंत आ गया है और वसंत की शुरुआत है। ऐसे में नीले आसमान के नीचे गाँव ऐसे लग रहा है जैसे जवाहरातों का डब्बा खुला पड़ा हो। ये जवाहर अपनी शोभा से लोगों के मन को हर ले रहा है।