क्लास 5 हिंदी

जहाँ चाह वहाँ राह

यह कहानी गुजरात की ऐसी लड़की की है जिसके हाथ काम नहीं करते हैं। यानि वह लड़की हाथों से ‌विकलांग है। चाहकर भी इला अपनी उम्र के बच्चों के साथ कई खेल नहीं खेल पाती है। जब वह पढ़ना चाहती है तो बड़ी मुश्किल से उसे स्कूल में एडमिशन मिल पाता है। लेकिन परीक्षा में समय पर पेपर न लिख पाने के कारण वह दसवीं पास नहीं कर पाती है।

इला हिम्मत नहीं हारती है। वह अपने पैरों सारे काम करना सीख लेती है। घर की बुजुर्ग महिलाओं को देखकर वह कशीदाकारी करना सीख लेती है। अपने डिजाइनों में इला काठियावाड़ी कढ़ाई के साथ देश के अन्य हिस्सों की शैली का बखूबी मिश्रण करती है।

प्रश्न 1: इला या इला जैसी कोई लड़की यदि तुम्हारी कक्षा में दाखिला लेती तो तुम्हारे मन में कौन कौन से प्रश्न उठते?

उत्तर: यदि इला जैसी कोई लड़की मेरी कक्षा में दाखिला लेती तो मेरे मन में तरह तरह के सवाल उठते। मुझे उसपर तरह आता। मेरी जिज्ञासा होती कि वह अपने जरूरी काम कैसे करती है। कोई उसका तिरस्कार तो नहीं करता है।

प्रश्न 2: इस लेख को पढ़ने के बाद क्या तुम्हारी सोच में कुछ बदलाव आए?

उत्तर: इस लेख को पढ़ने के बाद मेरे मन में विकलांग के प्रति सम्मान बढ़ गया। जहाँ चाह वहाँ राह वाली कहावत पर मेरा विश्वास और बढ़ गया।

प्रश्न 3: यदि इला तुम्हारे विद्यालय में आए तो उसे किन किन कामों में परेशानी आएगी?

उत्तर: इला को विद्यालय में कई कामों में परेशानी होगी। उसे लिखने में, कई खेल खेलने में, अपना बस्ता ढ़ोने, आदि में परेशानी होगी।

प्रश्न 4: उसे यह परेशानी न हो इसके लिए अपने विद्यालय में क्या तुम कुछ बदलाव सुझा सकते हो?

उत्तर: इला को एक सहायक रखने की अनुमति मिलनी चाहिए। उसकी परीक्षा मौखिक ही होनी चाहिए।

प्रश्न 5: इला के बारे में पढ़कर जैसे भाव तुम्हारे मन में उठ रहे हैं उन्हें इला को चिट्ठी लिखकर बताओ।

उत्तर: प्रिय इला

कल मुझे तुमसे मिलने का मौका मिला। तुम्हारी दृढ़ चइच्छाशक्ति देखकर मुझे बहुत प्रेरणा मिलती है। तुम्हारी प्रतिभा की जितनी तारीफ की जाए कम है। तुम न केवल अपने जैसे बच्चों के लिए बल्कि मेरे जैसे बच्चों के लिए भी एक सशक्त उदाहरण पेश करती हो।

प्रश्न 6: इला को लेकर स्कूल वाले चिंतित क्यों थे? क्या उनका चिंता करना सही था या नहीं? अपने उत्तर का कारण लिखो।

उत्तर: स्कूल वाले इला की सुरक्षा को लेकर चिंतित थे। वे इस बात को लेकर भी चिंतित थे कि अन्य बच्चों की तरह इला तेजी से काम नहीं कर सकती थी। मुझे लगता है कि स्कूल वाले अपनी जगह सही थे।

प्रश्न 7: इला की कशीदाकारी में क्या खास बात थी?

उत्तर: इला की कशीदाकारी में कढ़ाई की कई शैलियों का मिश्रण होता था। काठियावाड़ी कढ़ाई के अलावा वह देश की कई अन्य शैली की कशीदाकारी भी बखूबी कर लेती थी।

प्रश्न 8: सही या गलत का पता करो

  1. परीक्षा के लिए उसने अच्छी तरह तैयारी नहीं की थी।
  2. वह परीक्षा पास करना नहीं चाहती थी।
  3. लिखने की गति धीमी होने के कारण वह प्रश्न पत्र पूरे नहीं कर पाती थी।
  4. उसको पढ़ाई करना कभी अच्छा लगा ही नहीं।

उत्तर: (c) लिखने की गति धीमी होने के कारण वह प्रश्न पत्र पूरे नहीं कर पाती थी।

प्रश्न 9: क्या इला अपने पैर के अँगूठे से कुछ भी करना सीख पाती, अगर उसके आस पास के लोग उसके लिए सभी काम स्वयं कर देते और उसको कुछ करने का मौका नहीं देते?

उत्तर: अगर इला के आस पास के लोग उसके लिए सभी काम स्वयं करते और उसे कुछ करने का मौका नहीं देते तो इला अपने पैर के अँगूठे से कुछ भी करना नहीं सीख पाती।

Copyright © excellup 2014